गुरुवार, 17 सितंबर 2009

सत्संगमहिमा

सत्संग्त्वे निहसंग्त्वं
निहसंगत्वे निर्मोहत्वं
निर्मोहत्वे निश्चल तत्वं
निश्चल्तत्वे जिवन मुक्ति:

मन्त्र का अर्थ है:-
जो (शरीर-सन्सार)अपना नही है, उसे अपना स्वीकार न करना सत्संग है और जो (प्रभु) अपना है, उसे अपना स्विकार करना भी सत्संग है।
सत्संग से व्यक्ति,वस्तु,अवस्था, प्रिस्थिती मे आकर्षण न रहना - यह असंगता (नि:संगता) है। इससे क्रमसश: निर्मोहत्व (नीर्ममता)और निश्चलता की प्राप्ती होती है जो जिवनमुक्ती (अमरत्व) का बोध है।
नोट: सत्संग का फ़ल युगपत् होता है अर्थत वर्तमान मे ही होता है। इसलिए स्वयं साधन काल मे परखते रहना चाहिए कि शरीर और संसार से असंगता का अनुभव हो रहा है या नही।


पुनश्च

2 टिप्‍पणियां:

  1. दुबे जी मन्त्र का हिंदी में अर्थ भी दें तो बहुत अच्छा होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्री नवीन त्यागी जी
    मन्त्र का अर्थ है:-
    जो (शरीर-सन्सार)अपना नही है, उसे अपना स्वीकार न करना सत्संग है और जो (प्रभु) अपना है, उसे अपना स्विकार करना भी सत्संग है।
    सत्संग से व्यक्ति,वस्तु,अवस्था, प्रिस्थिती मे आकर्षण न रहना - यह असंगता (नि:संगता) है। इससे क्रमसश: निर्मोहत्व (नीर्ममता)और निश्चलता की प्राप्ती होती है जो जिवनमुक्ती (अमरत्व) का बोध है।
    नोट: सत्संग का फ़ल युगपत् होता है अर्थत वर्तमान मे ही होता है। इसलिए स्वयं साधन काल मे परखते रहना चाहिए कि शरीर और संसार से असंगता का अनुभव हो रहा है या नही।

    उत्तर देंहटाएं